Khamoshiyan Lyrics song by – Arijit Singh

Song: Khamoshiyan Lyrics

Writer: Jeet Gannguli, Rashmi Singh

Khamoshiyan Lyrics By Arijit Singh

Khamoshiyan Lyrics In Hindi

खामोशियाँ आवाज़ हैं

तुम सुनने तो आओ कभी

छुकर तुम्हें खिल जाएँगी

घर इनको बुलाओ कभी

बेकार हैं बात करने को

कहने दो इनको ज़रा

खामोशियाँ। तेरी मेरी खामोशियां

खामोशियां। लिपटी हुई खामोशियाँ

क्या उस गली में कभी तेरा जाना हुआ

जहाँ से ज़माने को गुज़रे ज़माना हुआ

मेरा समय तो वहीं पे है ठहरा हुआ

बताऊँ तुम्हें क्या मेरे साथ क्या हुआ

खामोशियाँ एक साज़ है

तुम धुन कोई लाओ ज़रा

खामोशियाँ अल्फाज़ हैं

कभी आ गुनगुना ले ज़रा

बेकार हैं बात करने को

कहने दो इनको ज़रा हा

खामोशियाँ। तेरी मेरी खामोशियां

खामोशियां। लिपटी हुई खामोशियाँ

नदिया का पानी भी खामोश यहाँ

खिली चाँदनी में छिपी लाख खामोशियाँ

बारिश की बूंदों की होती कहाँ है जुबान

सुलगते दिलों में है खामोश उठता धुआँ

खामोशियाँ आसमान है

तुम उड़ने तो आओ ज़रा

खामोशियाँ एहसास है

तुम्हें महसूस होती है क्या

बेकार हैं बात करने को

कहने दो इनको ज़रा हा

खामोशियाँ. तेरी मेरी खामोशियां

खामोशियां। लिपटी हुई खामोशियां

खामोशियां। तेरी मेरी खामोशियां

खामोशियां। लिपटी हुई खामोशियां

{ Khamoshiyan aawaaz hain

Tum sun’ne to aao kabhi

Chhukar tumhe khill jaayengi

Ghar inko bulaao kabhi

Beqarar hain baat karne ko

Kehne do inko zaraa

Khamoshiyan. Teri meri khamoshiyan

Khamoshiyan. Lipti hui khamoshiyan

Kya uss gali mein kabhi tera jaana hua

Jahaan se zamaane ko guzre zamaana hua

Mera samay toh wahin pe hai thehra hua

Bataaun tumhe kya mere sath kya kya hua

Khamoshiyan ek saaz hai

See also  Correct Lyric for "The Cruel Summer"

Tum dhun koi laao zaraa

Khamoshiyan alfaaz hain

Kabhi aa gunguna le zara

Beqarar hain baat karne ko

Kehne do inko zaraa haa

Khamoshiyan. Teri meri khamoshiyan

Khamoshiyan. Lipti hui khamoshiyan

Nadiya ka paani bhi khamosh behta yahaan

Khili chandani mein chhipi lakh khamoshiyan

Baarish ki boondon ki hoti kahaan hai zubaan

Sulagte dilon mein hai khamosh uthta dhuaan

Khamoshiyan aakaash hai

Tum udne toh aao zara

Khamoshiyan ehsaas hai

Tumhe mehsoos hoti hai kya

Beqarar hain baat karne ko

Kehne do inko zara haa

Khamoshiyan. Teri meri khamoshiyan

Khamoshiyan. Lipti hui khamoshiyan

Khamoshiyan. Teri meri khamoshiyan

Khamoshiyan. Lipti hui khamoshiyan }

Leave a Comment